चिकनगुनिया बीमारी का इलाज व घरेलू उपचार

​चिकनगुनिया क्या है? 
चिकनगुनिया एक वायरल डिजीज है जो मच्छरों द्वारा काटने से फैलती है। पहली बार चिकनगुनिया को 1952 में दक्षिणी तंजानिया में रिपोर्ट किया गया था। और अब ये बीमारी दुनियाभर के 60 से अधिक देशों में फ़ैल चुकी है। एक बार फैलने के बाद अक्सर यह बीमारी 7-8 साल के इंटरवल के बाद दुबारा फैलती है। For ex: दिल्ली में 2010 चिकनगुनिया spread हुआ था और इस समय 2016 में एक बार फिर यह चर्चा में है।

इस बीमारी का नाम चिकनगुनिया कैसे पड़ा?
“Chikungunya” शब्द Southern Tanzaniya में बोले जाने वाली Kimakonde / Makonde भाषा से लिया गया है, जिसमे इसका अर्थ “ ,मुड़ा हुआ” या “विकृत” होता है। दरअसल, चिकनगुनिया से त्रस्त लोगों को भयंकर जॉइंट पेन से गुजरना पड़ता है और ऐसे में वे ठीक से चल नहीं पाते और अक्सर झुक-झुक कर चलते हैं, यही कारण है की इस बीमारी को Chikungunya का नाम दिया गया।

चिकनगुनिया से बचने के उपाय / Prevention of Chikungunya 
चिकनगुनिया एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को केवल मच्छरों के काटने से फ़ैल सकता है, इसलिए जहाँ तक हो सके मच्छरों  के काटने से बचें।

घर में या आस-पास जल-जमाव ना होने दें।

मच्छरदानी का प्रयोग करें, दिन के समय भी!

दिन में भी mosquito repellents, like Good Knight, Mortein जला कर रखें।

बाहर जाते समय ओडोमॉस का प्रयोग किया जा सकता है।

ऐसे कपड़े पहनें जो शरीर का अधिक से अधिक भाग ढक सकें।

कुछ दिनों तक बच्चों को बाहर खलने न भेजें।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s